Ek aag har dil mei humko jalaana hei

Ek aag har dil mei humko jalaana hei

इक आग हर दिल में

इक आग हर दिल में
हमको जलाना है
भटके हुए दिल को
प्रभु से मिलाना है

संसार की आशा भरी
नज़रें हम ही पर हैं
उद्धार का संदेश भी
कांधों के ऊपर है
एक दीप से लाखों दिये – 2
हमको जलाना है
भटके हुए…

इतने सरल ये रास्ते
कल ना खुले होंगे
प्रचार के अवसर हमें
हाँसिल नहीं होंगे
तैयार रहना कल हमें – 2
खुद को मिटाना है
भटके हुए…

Ek aag har dil mein

Ek aag har dil mei
humko jalaana hei
bhatke hue dil ko
Prabhu se milaana hei

sansaar ki aasha bhari
nazarein hum hi par hein
uddhar ka sandesh bhi
kaandho ke upar hei
ek deep se laakhon diye -2
humko jalaana hei
bhatke hue…

itne saral ye raste
kal na khule honge
prachaar ke awasar hamein
hansil nahi honge
taiyaar rahna kal hamein -2
khud ko mitaana hei
bhatke hue…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *